हिन्दी अक्षर-माला

देवनागरी एक भारतीय लिपि है जिसमें अनेक भारतीय भाषाएँ तथा कई विदेशी भाषाएँ लिखी जाती हैं। यह बायें से दायें  हिन्दी अक्षर-माला लिखी जाती है। इसकी पहचान एक क्षैतिज रेखा से है जिसे ‘शिरोरेखा’ कहते हैं। संस्कृतपालिहिन्दीमराठीकोंकणीसिन्धीकश्मीरीहरियाणवीडोगरीखसनेपाल भाषा (तथा अन्य नेपाली भाषाएँ), तमांग भाषागढ़वालीबोडोअंगिकामगहीभोजपुरीनागपुरीमैथिलीसंतालीराजस्थानी बघेली आदि भाषाएँ और स्थानीय बोलियाँ भी    हिन्दी अक्षर-माला देवनागरी में लिखी जाती हैं। इसके अतिरिक्त कुछ स्थितियों में गुजरातीपंजाबीबिष्णुपुरिया मणिपुरीरोमानी और उर्दू भाषाएँ भी देवनागरी हिन्दी अक्षर-माला में लिखी जाती हैं। देवनागरी विश्व में सर्वाधिक प्रयुक्त हिन्दी अक्षर-माला लिपियों में से एक है। यह दक्षिण एशिया की  अधिक भाषाओं को लिखने के लिए प्रयुक्त हो रही है।

हिन्दी अक्षर-माला

हिन्द-आर्य भाषाएँ हिन्द-यूरोपीय भाषाओं की हिन्द-ईरानीहिन्दी अक्षर-माला शाखा की एक उपशाखा हैं, जिसे ‘भारतीय उपशाखा’ भी हिन्दी अक्षर-माला कहा जाता है। इनमें से अधिकतर भाषाएँहिन्दी अक्षर-माला संस्कृत से जन्मी हैं। हिन्द-आर्य  हिन्दी अक्षर-माला भाषाओं में आदि-हिन्द-यूरोपीय भाषा के ‘घ’, ‘ध’ और ‘फ’ जैसे व्यंजन परिरक्षित हैं, जो अन्य हिन्दी अक्षर-माला शाखाओं में लुप्त हो गये हैं। इस समूह में यह भाषाएँ आती हैं : संस्कृतहिन्दीउर्दूबांग्लाकश्मीरीसिन्धीपंजाबीनेपालीरोमानीअसमियागुजरातीमराठी, इत्यादि।

 

Please disable your adblocker or whitelist this site!